Rakesh K. Mandowara

https://youtu.be/IQqzGlwe7jQ

My movie HAQEEQAT link

Photo Albums

Friends

mahendra singh

Newsfeed

  • Rakesh K. Mandowara
    अगर पद्मावत विरोध,
    चाय - पकोड़े और
    प्रिया प्रकाश से फुर्सत मिल गयी हो तो .
    .
    .
    .
    .उस फूल जैसी बच्ची😜😜😂😂😂
    .
    .
    .
    .
    .
    👉"हनी प्रीत" की भी कुछ खबर ले लो...
    प्रेम दिवस भी निकल गया
    ना जाने किस हाल में होगी🤔🤔🤔🤔

    😂😂😂😂😂😂😂😂😂
    .
    .
    अगर पद्मावत विरोध,
    चाय - पकोड़े और
    प्रिया प्रकाश से फुर्सत मिल गयी हो तो .
    .
    .
    .
    .उस फूल जैसी बच्ची😜😜😂😂😂
    .
    .
    .
    .
    .
    👉"हनी प्रीत" की भी कुछ खबर ले लो...
    प्रेम दिवस भी निकल गया
    ना जाने किस हाल में होगी🤔🤔🤔...See more
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    पतले लोग मोटे लोगो पर ताने तो यूँ कसते है मानो धरती की आधी समस्यायों के लिए हम ही जिम्मेदार है। भाई मेरे, तुमने पतले होकर क्या तीर मार लिया...
    कौन सा ओबामा तुम्हारे साथ बैठ कर तीन पत्ती खेलता है।

    आप ही बताइये किस क्षेत्र में मोटे लोग नहीं है...

    क्या हनी सिंह, नुसरत फ़तेह अली खान से अच्छा गायक है,

    क्या शिखर धवन , ङेविङ बून से अच्छा बल्लेबाज़ है,

    क्या अनिल अम्बानी, मुकेश अम्बानी से ज्यादा अमीर है,

    क्या मिथुन दा, गणेश आचार्य से अच्छे डांसर है...बोलिये...???

    क्या ओम पुरी , अमजद खान से अच्छे एक्टर है...बोलिये...???

    अपने मोटापे पर शर्म नहीं,
    गर्व कीजिये...

    हमारे कारण ही बाबा रामदेव ने नाम कमाया है..., लोग मोटे ना होते तो वो योग किसे सिखाते...राजपाल यादव को???

    हम जैसे मोटे लोगों के कारण ही कितने डॉक्टर व जिम वालों की रोज़ी रोटी चल रही है।

    माना हम तेज़ दौड़ नहीं सकते पर तेज़ दौड़ के हमें कौन सा काला धन लाना है।

    मोटापा आपको अच्छी व गहरी नींद देता है...

    बढ़ता मोटापा आपको हर महीने नए कपडे खरीदने का मौक़ा देता हैं। अत: मोटापा श्राप नहीं वरदान है,

    तोंद शर्म नहीं, ईश्वर का प्रसाद है।

    शर्माइये मत...

    गर्व से कहिये हम मोटे हैं.
    😃😃😃😃
    पतले लोग मोटे लोगो पर ताने तो यूँ कसते है मानो धरती की आधी समस्यायों के लिए हम ही जिम्मेदार है। भाई मेरे, तुमने पतले होकर क्या तीर मार लिया...
    कौन सा ओबामा तुम्हारे साथ बैठ कर तीन पत्ती खेलता है।

    आप ही बताइये किस क्षेत्र में मोटे लोग नहीं है...

    क्या हनी सिंह, नु...See more
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    इंटरवल के बाद अपनी सीट पर लौटती महिला ने कोने वाली सीट पर बैठे व्यक्ति से पुछा

    भाई साहब, बाहर जाते समय मैंने आपका पैर कुचल दिया था क्या ?

    दर्शक(गुस्से में) - हाँ,अब क्या माफ़ी मांग रही हो?

    महिला - माफ़ी नहीं भैया,इसका मतलब
    मेरी सीट इसी लाइन में है।"

    a💃💃💃😁😁😁
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    मेरे घरवालों के हिसाब से ...

    मेरी ज़िंदगी में जो भी गलत हो रहा है उसका 2 reason है 👉👉

    एक मेरा फ़ोन ....📲📲

    और दूसरा

    सुबह मेरा time से न उठना..😴😴
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    पिता बेटे को डॉक्टर बनाना चाहता था। बेटा इतना मेधावी नहीं था कि PMT क्लियर कर लेता। इसलिए दलालों से MBBS की सीट खरीदने का जुगाड़ किया गया। जमीन, जायदाद जेवर गिरवी रख के 35 लाख रूपये दलालों को दिए, लेकिन वहाँ धोखा हो गया।

    फिर किसी तरह विदेश में लड़के का एडमीशन कराया गया, वहाँ भी चल नहीं पाया। फेल होने लगा.. डिप्रेशन में रहने लगा। रक्षाबंधन पर घर आया और यहाँ फांसी लगा ली। 20 दिन बाद माँ बाप और बहन ने भी कीटनाशक खा के आत्म हत्या कर ली।

    अपने बेटे को डॉक्टर बनाने की झूठी महत्वाकांक्षा ने पूरा परिवार लील लिया। माँ बाप अपने सपने, अपनी महत्वाकांक्षा अपने बच्चों से पूरी करना चाहते हैं ...

    मैंने देखा कि कुछ माँ बाप अपने बच्चों को
    Topper बनाने के लिए इतना ज़्यादा अनर्गल दबाव डालते हैं कि बच्चे का स्वाभाविक विकास ही रुक जाता है।

    आधुनिक स्कूली शिक्षा बच्चे की Evaluation और Grading ऐसे करती है जैसे सेब के बाग़ में सेब की खेती की जाती है। पूरे देश के करोड़ों बच्चों को एक ही Syllabus पढ़ाया जा रहा है .......

    For Example - जंगल में सभी पशुओं को एकत्र कर सबका इम्तहान लिया जा रहा है और पेड़ पर चढ़ने की क्षमता देख के Ranking निकाली जा रही है। यह शिक्षा व्यवस्था ये भूल जाती है कि इस प्रश्नपत्र में तो बेचारा हाथी का बच्चा फेल हो जाएगा और बन्दर First आ जाएगा।

    अब पूरे जंगल में ये बात फ़ैल गयी कि कामयाब वो जो झट से कूद के पेड़ पर चढ़ जाए। बाकी सबका जीवन व्यर्थ है।

    इसलिए उन सब जानवरों के, जिनके बच्चे कूद के झटपट पेड़ पर न चढ़ पाए, उनके लिए कोचिंग Institute खुल गए, व्हाँ पर बच्चों को पेड़ पर चढ़ना सिखाया जाता है। चल पड़े हाथी, जिराफ, शेर और सांड़, भैंसे और समंदर की सब मछलियाँ चल पड़ीं अपने बच्चों के साथ, Coaching institute की ओर ........ हमारा बिटवा भी पेड़ पर चढ़ेगा और हमारा नाम रोशन करेगा।

    हाथी के घर लड़का हुआ .......
    तो उसने उसे गोद में ले के कहा- 'हमरी जिन्दगी का एक ही मक़सद है कि हमार बिटवा पेड़ पर चढ़ेगा।' और जब बिटवा पेड़ पर नहीं चढ़ पाया, तो हाथी ने सपरिवार ख़ुदकुशी कर ली।

    अपने बच्चे को पहचानिए। वो क्या है, ये जानिये। हाथी है या शेर ,चीता, लकडबग्घा , जिराफ ऊँट है या मछली , या फिर हंस , मोर या कोयल ? क्या पता वो चींटी ही हो ?

    और यदि चींटी है आपका बच्चा, तो हताश निराश न हों। चींटी धरती का सबसे परिश्रमी जीव है और अपने खुद के वज़न की तुलना में एक हज़ार गुना ज्यादा वजन उठा सकती है।

    इसलिए अपने बच्चों की क्षमता को परखें और जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें.. हतोत्साहित नही......
    s🙏🏻
    पिता बेटे को डॉक्टर बनाना चाहता था। बेटा इतना मेधावी नहीं था कि PMT क्लियर कर लेता। इसलिए दलालों से MBBS की सीट खरीदने का जुगाड़ किया गया। जमीन, जायदाद जेवर गिरवी रख के 35 लाख रूपये दलालों को दिए, लेकिन वहाँ धोखा हो गया।

    फिर किसी तरह विदेश में लड़के का एडमीशन कराया गया, वहाँ भी चल नहीं...See more
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    Valentine Week special

    मुद्दतों के इन्तज़ार के बाद बडी हिम्मत से मैने उसे बताया,
    मुझे 'आप ' पसंद हैं । 😍
    .
    वो बडी नासमझ निकली,
    और बोली,
    मुझे ' भाजपा ' ।😜😛😂

    😳😕😬😔😏😉🤔🙄😖
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    Best Marriage Proposal..
    .

    .

    .

    .
    "क्या तुम मेरे घर मे क्लेश करना पसन्द करोगी!!!"
    😜😂😂😜🙈😄🤣😂🤩😋
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    *एक लड़की के सिर्फ़ आँख मारने पर 24 घंटों में 7 लाख Followers बन जाएँ, उस देश के युवा सच में पकोड़े तलने लायक ही हैं*।
    Feb 16
    0 1
    Rakesh K. Mandowara likes this
  • Rakesh K. Mandowara
    *_प्लेट में खाना छोड़ने से पहले रतन टाटा का ये संदेश ज़रूर पढ़ें!_*

    *_दुनिया के जाने-माने industrialist Ratan Tata ने अपनी एक Tweet के माध्यम से एक बहुत ही inspirational incident share किया था। आज मैं उसी ट्वीट का हिंदी अनुवाद आपसे शेयर कर रहा हूँ :_*

    _पैसा आपका है लेकिन संसाधन समाज के हैं!_

    _जर्मनी एक highly industrialized देश है। ऐसे देश में, बहुत से लोग सोचेंगे कि वहां के लोग बड़ी luxurious लाइफ जीते होंगे।_

    _जब हम हैम्बर्ग पहुंचे, मेरे कलीग्स एक रेस्टोरेंट में घुस गए, हमने देखा कि बहुत से टेबल खाली थे। वहां एक टेबल था जहाँ एक यंग कपल खाना खा रहा था। टेबल पर बस दो dishes और beer की दो bottles थीं। मैं सोच रहा था कि क्या ऐसा सिंपल खाना रोमांटिक हो सकता है, और क्या वो लड़की इस कंजूस लड़के को छोड़ेगी!_

    _एक दूसरी टेबल पर कुछ बूढी औरतें भी थीं। जब कोई डिश सर्व की जाती तो वेटर सभी लोगों की प्लेट में खाना निकाल देता, और वो औरतें प्लेट में मौजूद खाने को पूरी तरह से ख़तम कर देतीं।_

    _चूँकि हम भूखे थे तो हमारे लोकल कलीग ने हमारे लिए काफी कुछ आर्डर कर दिया। जब हमने खाना ख़तम किया तो भी लगभग एक-तिहाई खाना टेबल पर बचा हुआ था।_

    _जब हम restaurant से निकल रहे थे, तो उन बूढी औरतों ने हमसे अंग्रेजी में बात की, हम समझ गए कि वे हमारे इतना अधिक खाना waste करने से नाराज़ थीं।_

    _” हमने अपने खाने के पैसे चुका दिए हैं, हम कितना खाना छोड़ते हैं इससे आपका कोई लेना-देना नहीं है।”, मेरा कलीग उन बूढी औरतों से बोला। वे औरतें बहुत गुस्से में आ गयीं। उनमे से एक ने तुरंत अपना फ़ोन निकला और किसी को कॉल की। कुछ देर बाद, Social Security Organisation का कोई आदमी अपनी यूनिफार्म में पहुंचा। मामला समझने के बाद उसने हमारे ऊपर 50 Euro का fine लगा दिया। हम चुप थे।_

    _ऑफिसर हमसे कठोर आवाज़ में बोला, “उतना ही order करिए जितना आप consume कर सकें, पैसा आपका है लेकिन संसाधन सोसाइटी के हैं। दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जो संसाधनों की कमी का सामना कर रहे हैं। आपके पास संसाधनों को बर्वाद करने का कोई कारण नहीं है।”_

    _इस rich country के लोगों का mindset हम सभी को लज्जित करता है। हमे सचमुच इस पर सोचना चाहिए। हम ऐसे देश से हैं जो संसाधनों में बहुत समृद्ध नहीं है। शर्मिंदगी से बचने के लिए हम बहुत अधिक मात्रा में आर्डर कर देते हैं और दूसरों को treat देने में बहुत सा food waste कर देते हैं।_

    _The Lesson Is – अपनी खराब आदतों को बदलने के बारे में गम्भीरता से सोचें। Expecting acknowledgement, कि आप ये मैसेज पढ़ें और अपने कॉन्टेक्ट्स को फॉरवर्ड करें।_

    _Very True- “MONEY IS YOURS BUT RESOURCES BELONG TO THE SOCIETY / पैसा आपका है लेकिन संसाधन समाज के हैं।”_

    _दोस्तों, कोई देश महान तब बनता है जब उसके नागरिक महान बनते हैं। और महान बनना सिर्फ बड़ी-बड़ी achievements हासिल करना नही है…महान बनना हर वो छोटे-छोटे काम करना है जिससे देश मजबूत बनता है आगे बढ़ता है। खाने की बर्बादी रोकना, पानी को waste होने से बचाना, बिजली को बेकार ना करना…ये छोटे-छोटे कदम हैं जो देश को मजबूत बनाते हैं।_

    *_प्लेट में खाना छोड़ने से पहले रतन टाटा का ये संदेश ज़रूर पढ़ें!_*

    *_दुनिया के जाने-माने industrialist Ratan Tata ने अपनी एक Tweet के माध्यम से एक बहुत ही inspirational incident share किया था। आज मैं उसी ट्वीट का हिंदी अनुवाद आपसे शेयर कर रहा हूँ :_*

    _पैसा आपका है लेकिन स...See more
  • Rakesh K. Mandowara
    Rakesh K. Mandowara liked their status
    ---- ****----****---
    कोई घोटालेबाज जेल गया नहीं !
    किसी के पास काला धन मिला नहीं !
    गंगा साफ हुई नहीं !
    राम मंदिर बना नहीं !
    धारा 370 हटी नहीं !
    सीमा पर शहादतें घटीं नहीं !

    तो क्या हम लोगों ने ये सरकार सिर्फ मोबाइल नम्बर को आधारकार्ड से लिंक कराने के लिए बनाई थी क्या .. ??

    😂😂😂
    ---- ****----****---
    कोई घोटालेबाज जेल गया नहीं !
    किसी के पास काला धन मिला नहीं !
    गंगा साफ हुई नहीं !
    राम मंदिर बना नहीं !
    धारा 370 हटी नहीं !
    सीमा पर शहादतें घटीं नहीं !

    तो क्या हम लोगों ने ये सरकार सिर्फ मोबाइल नम्बर को आधारकार्ड से लिंक करा...See more