• mahendra singh
    व्यंग्य
    _____

    ट्रांसफर खुले ।

    प्रिया प्रकाश की आंखों की अठखेलियाँ भी इतनी तेजी से वायरल नही हुई होगी जितना तेजी से ट्रान्सफर खुल जाने का आदेश वायरल हुआ ।

    आदेश का फोटो इधर से उधर और उधर से इधर 2, 5 मिनट में प्रदेश भर में फैल गया तो यूँ लगा कि मानों अहल्या रूपी शिक्षक कर्मचारी इसी राम रूपी आदेश के लिए सतयुग - त्रेता - द्वापर से कलयुग तक प्रतीक्षारत था ।

    कई लोगों ने तो अति उत्साह में अपने परिचितों को एक ही मेसेज कई बार भेज दिया, खैर कोई बात नही jio जिंदाबाद, आज एक डेढ़ जीबी डाटा इसी सन्देश को भेजने में भी फुक जाए तो गम नही ।

    कई लोगों ने तो इस आदेश को कई कई बार पढ़ा और पत्नी को भी बुलाकर कहा कि चिकोटी काटो,

    पत्नियां भी पति के साथ घर से, दूर सात समुन्दर पार मैं तेरे पीछे पीछे आ गयी...जैसी परिस्थितियों में रह रही थी तो कुछ बदला निकालने के लिए और कुछ पति से पुरानी शिकायतों के मारे इतने जोर से पति को नोचा कि कर्मचारी पति के मुहँ से उई माँ...निकला,
    पर विश्वास हो ही गया कि ये आदेश रूपी भगवान सत्य ही है ।

    कई लोगों ने तो एक दूसरे को फोन खड़का के कन्फर्म किया और कई लोगों ने आदेश का प्रिंट निकालकर आदेश को कुछ घूर कर और कुछ प्यार से यूँ देखा कि मानों दुबारा से नौकरी मिल जाने का अहसास हो रहा हो ।

    ट्रांसफर से प्रतिबंध हट जाने का आदेश सुनकर मोहल्लों में मिठाई बांटी जा रही है, पुराने सम्पर्क साधे जा रहे है, रिश्तेदारों के नाम याद किये जा रहे है जो अगर काम आ सके तो ।

    दूर कार्यरत कर्मचारी की पत्नी फोन करके अपनी मां को खुशखबरी दे रही है तो पति गुस्सा हो रहा है कि अभी सिर्फ प्रतिबंध हटा है , तबादला हुआ नही है, मायके वालों को अभी से क्यो ढिंढोरा पीट रही हो ।

    पत्नियां पति से ज्यादा स्मार्ट है । बोली- ठीक है नही बताती, वैसे मेरे मामा जी ने वार्ड पंच का चुनाव लड़ा था और 12 वोट से हारे थे । आज भी उनकी बड़ो बड़ो से पहचान है पर तुम कहते हो तो रख देती हूँ फोन ।

    भागते भूत की लँगोटी भली, पति तुरन्त पत्नी के सामने मासूमियत भाव ले आये और दांत निपोरे कि ऐसी मासूमियत तो परीक्षा में नकल करते हुए पकड़े जाने पर बच्चे के चेहरे पर नजर आती है ।

    जैसे सावे शुरू होते है, देव जागते है, तबादला देवी जागी है । कई कर्मचारियों को आज रात भर उसी तरह नींद नही आएगी जैसे नोटबन्दी की घोषणा हुई थी तो काले धन वाले जागे थे कि 1000, 500 के नोटों को कहाँ ठिकाने लगाए ।

    कई लोगों को सपना ही यही आएगा कि इच्छित जगह पर पहुँच गए है । किसी को फोन करो और बिजी आये तो सम्भव है कि कोशिश-ए-तबादला की जा रही है ।

    खुशी रोज रोज घर नही आती, तबादले खुलने की खुशी में कल कुछ दिन तक दफ्तर और स्कूलों में इसी विषय पर चर्चाओं का दौर चलेगा ।
    कई लोग कोशिश भी करेंगे अंदर अंदर और लोगों की नजर न लग जाये इसलिए प्रस्तुत यूँ रहेंगे कि मेरा तो ट्रांसफर में कोई इंटरेस्ट नही ।

    पति कहीं और पत्नी कहीं, खासकर जिनकी हाल ही में शादी हुई है, वे लोग तबादले खुलने के आदेश को सुनकर सुनाकर दूरियाँ खत्म होने की कल्पना करके फोन पर रात भर प्रेम को गाना गाकर अभिव्यक्त करेंगे कि "मिलन अभी आधा अधूरा है, मिलन अभी आधा अधूरा है.."

    कई लोग रोज पहाड़ पर जाकर देख के आते थे कि काश अच्छे दिन आते नजर आ जाए। आज उनकी मुराद पूरी हुई । तबादले खुलने का आदेश ही तो अच्छे दिन का फरमान था । इस फरमान का एक एक शब्द पर बलिहारी जाए ..
    मुगल काल में शाहजहाँ जहांगीर के शाही फरमान को पढ़कर जैसे किसी दरबारी को मिलती थी जिसको हाथी भेंट मिल जाता था, वैसे ही आज कर्मचारी खुश है,
    तबादला रूपी हाथी आज जाकर छूटा है, बाहुबली 2 का दृश्य याद कीजिये,
    कवि बिहारी याद आ रहे है, "मन्द मन्द आवत चल्यो, कुंजर कुंज समीर"

    शायद कबीर की पंक्तियां है, अंखियन तो झाई परी, पंथ निहार निहार।
    तबादले खुलने के आदेश की प्रतीक्षा ही कर रही थी आंखे, पथ निहार रही थी धड़कने, किसी फ़िल्म में गाना है, हुजूर आते आते बहुत देर कर दी, बड़ी देर से दर पर आंखे लगी थी

    पर देर आये, दुरुस्त आये । कइयो के वनवास खत्म होंगे । कइयों के खेत खलिहान मुस्कुरायेगे । कई अब जाकर अपने गांव में जब कदम रखेंगे तो गांव की मिट्टी और कर्मचारी के मन दोनों अपनापन महसूस करेंगे वरना अब तक तो मेहमान मेजबान का सम्बंध रहता था। कइयो के दाम्पत्य अब जाकर प्रगाढ़ होंगे और कइयो के बच्चों को अब जाकर 24×7 वर्ष पर्यंत माता या पिता का सामीप्य सुख मिलेगा ।
    😊😊😊😊😊
    व्यंग्य
    _____

    ट्रांसफर खुले ।

    प्रिया प्रकाश की आंखों की अठखेलियाँ भी इतनी तेजी से वायरल नही हुई होगी जितना तेजी से ट्रान्सफर खुल जाने का आदेश वायरल हुआ ।

    आदेश का फोटो इधर से उधर और उधर से इधर 2, 5 मिनट में प्रदेश भर में फैल गया तो यूँ लगा कि मान...See more
    Mar 13
    0 0